जानिए लता मंगेशकर के 94वें जन्मदिन पर उनकी कुछ रोचक बाते 

बहुत लोगों को यह जानकारी नहीं होगी की जन्म के समय लताजी का नाम हेमा रखा गया था

एक किरदार का नाम लतिका था,  पिताजी पसंद आने पर उनका नाम  हेमा से बदलकर लता रख दिया

प्यार से उन्हें सब लता दीदी कहकर पुकारते हैं |

सन 2001 में राष्ट्र में उनके योगदान के लिए उन्हें भारत के सर्वोच्च सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया था |

नई दिल्ली के नेशनल स्टेडियम  में लताजी ने ऐ मेरे वतन के लोगों गीत सुनकर नेहरु जी भी रो पड़े थे |

2019 में राष्ट्र को श्रधांजलि के रूप  में अपना अंतिम गाना ‘सौगंध मुझे इस मिटटी की रिकॉर्ड’ किया था|